0 0
Read Time:4 Minute, 1 Second

मुजफ्फरपुर, जिले में बाढ़ 2020 के कारण विभिन्न क्षेत्रों में हुई क्षति का आकलन करने के लिए आज दो सदस्यीय टीम मुजफ्फरपुर पहुंची. जिसमे शामिल अधिकारी श्री दीपेंद्र कुमार- निदेशक, वित्त विभाग भारत सरकार और श्री वीरेंद्र सिंह निदेशक, कृषि भारत सरकार ने जिला स्तरीय पदाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में जिला पदाधिकारी द्वारा पीपीटी के माध्यम से बाढ़ पूर्व तैयारी, बाढ़ के समय राहत एवं बचाव कार्य तथा बाढ़ के कारण विभिन्न क्षेत्रों में हुई क्षति के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई।

जिलाधिकारी ने बताया कि जिले के 15 प्रखंड के कुल 287 पंचायत और 3156 गांवों की कुल 2266565 जनसंख्या बाढ़ से प्रभावित हुई है। 198 पंचायत पूर्ण रूप से और 89 आंशिक रूप से प्रभावित हुए हैं। मीनापुर में 315693 जनसंख्या प्रभावित हुई जो सबसे अधिक है जबकि मोतीपुर में 26020 जनसंख्या प्रभावित हुई जो कि सबसे कम है ।गृह क्षति का सर्वेक्षण कराया जा रहा है। पशु क्षति 15,मानव क्षति 06 हुई।जबकि कुल प्रभावित कृषि क्षेत्रफल 108532.88 हेक्टेयर है जो कि कुल आच्छादित रकबा का 67.75% है। बाढ़ के कारण कुल 655 सड़कें क्षतिग्रस्त हुई।  इनमें ग्रामीण कार्य विभाग, कार्य प्रमंडल पश्चिमी-95, ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल पूर्वी-1में 250 , ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल पूर्वी-2 में 281 तथा पथ निर्माण प्रमंडल-01 में 22 , पथ निर्माण प्रमंडल-02 में 7 इस तरह से कुल 655 सड़के क्षतिग्रस्त हुई।

बैठक में बाढ़ को लेकर चलाए जा रहे राहत कार्यों के बारे में भी बिंदुवार जानकारी केंद्रीय टीम को उपलब्ध कराई गई। बताया गया कि कुल 341निजी नावें और 33 सरकारी नावों का परिचालन हुआ जबकि 16 मोटर बोट का प्रयोग किया गया. 383 सामुदायिक किचेन चलाए गए जिसमें 4190397 लोगों ने भोजन किया। कुल 75921 पॉलिथीन सीट्स का वितरण किया गया. जबकि 57033 सुखा राशन पैकेट का वितरण किया गया। 45 स्वास्थ्य शिविर चलाए गए जबकि 25 मोबाइल चिकित्सा दलों के द्वारा काम किया गया। 50289 हैलोजन टेबलेट वितरित किए गए जबकि 4738 किलोग्राम ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया गया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में कुल 141 नए चापाकल लगाए गए जबकि 276 नए शौचालयों का निर्माण किया गया। साथ ही 342 चापाकलों की मरम्मत भी की गई। कुल प्रभावित परिवारों की संख्या 651695 रही है जिसमें 535400 को जीआर राशि भुगतान हेतु अग्रसारित कर दिया गया है। बैठक के बाद केंद्रीय टीम के द्वारा कांटी, कटरा ,गायघाट और बोचहां प्रखंड में बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया गया और हालात का जायजा लिया गया।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: