https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

ब्रह्मपुरा रेलवे कॉलोनी में अपार्टमेंट का निर्माण कराया जाएगा। इसके लिए आरएलडीए (रेल भूमि विकास प्राधिकरण) ने सर्वे का कार्य शुरू कर दिया है। सर्वे रिपोर्ट के बाद अपार्टमेंट निर्माण के लिए रिपोर्ट तैयार कर मुख्यालय को भेजी जाएगी।

योजना के अनुसार रेलवे कॉलोनियों में रेलकर्मियों और निजी लोगों के रहने के लिए अलग-अलग मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट बनाए जाएंगे। जर्जर हो चुके रेलवे क्वार्टर को तोड़कर करीब एक चौथाई जमीन पर रेलकर्मियों के लिए मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट बनाए जाएंगे। वहीं, तीन चौथाई बची जमीन पर मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट बनाकर 99 साल के लिए लीज पर निजी लोगों को दिया जाएगा।

अपार्टमेंट बनाने वाली कंपनी को तीन साल तक रेलकर्मियों के आवास का मुफ्त मेंटेनेंस करना होगा। तीन साल के बाद मेंटेनेंस रेलवे करेगा। वहीं, निजी लोगों के आवास का मेंटेनेंस सोसाइटी करेगी। निजी लोगों को अपार्टमेंट बेचने में मिले मुनाफे में रेलवे का भी हिस्सा होगा।

पीपीपी मोड (पब्लिक प्राइवेट पार्टिसिपेट) के तहत रेलवे कॉलोनियों के पुनर्विकास और रेलवे की बेकार पड़ी जमीन को व्यवसायिक इस्तेमाल में लाने के लिए रेलवे ने यह व्यवस्था शुरू की है। इस कार्य को अमलीजामा पहनाने की जिम्मेदारी आरएलडीए,नई दिल्ली को दी गई है। सोनपुर रेल मंडल के सहायक अभियंता दिलीप कुमार ने बताया कि ब्रह्मपुरा रेलवे कॉलोनी में आपर्टमेंट बनाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए सर्वे का कार्य चल रहा है। फिलहाल यह परियोजन शुरुआती दौर में है।

तीन माह तक कॉलोनी में रहता है जलजमाव

उत्तर बिहार की सबसे बड़ी रेलवे कॉलोनी ब्रह्मपुरा में तीन माह तक जलजमाव रहता है। करीब 25 एकड़ जमीन पर बसी रेलवे कॉलोनी में दो सौ क्वार्टर हैं। मंदिर, स्कूल, पोखर व स्वास्थ्य केंद्र की सुविधा है। सभी क्वार्टर पचास साल पहले के हैं। इससे 50 क्वार्टर जर्जर होने के बाद परित्यक्त घोषित किए जा चुके हैं। कॉलोनी में रह चुके सेवानिवृत्त सुपरवाइजर बीएन प्रसाद ने बताया कि जलजमाव व जर्जर भवन के कारण कॉलोनी की स्थिति दयनीय है। जर्जर सड़क के कारण परेशानी होती है।

दरभंगा में भी सर्वे इसी माह

मुजफ्फरपुर। रेल भूमि विकास प्राधिकरण, नई दिल्ली के संयुक्त महाप्रबंधक प्रभात रंजन सिंह ने शनिवार को सहरसा शहर के पूर्वी रेलवे कॉलोनी का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान रेलकर्मियों के आवास के मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट कहां बने, उसको लेकर विचार-विमर्श किया। निजी लोगों से संबंधित अपार्टमेंट, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, कम्युनिटी हॉल कहां बने, उस पर चर्चा की। उल्लेखनीय है कि सहरसा के अलावा कटिहार, दरभंगा, पटना, मुजफ्फरपुर, गया और धनबाद की रेलवे कॉलोनियों में कॉलोनी डवलपमेंट काम के तहत मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट बनाए जाएंगे। अपार्टमेंट में टाइप फॉर, टाइप थ्री से लेकर सभी तरह के क्वार्टर रहेंगे। सभी क्वार्टर में रहने वाले लोगों के लिए पार्किंग, ग्रीन एरिया की सुविधा रहेगी। कॉलोनी में पार्क का निर्माण किया जाएगा। दरभंगा की दीवानी तकिया कॉलोनी में निर्माण के लिए दिल्ली की कंसल्टेंट कंपनी को बहाल किया गया है, जो इसी माह सर्वे करेगी।

Input : Live Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *