https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

पटना, 8 जुलाई वुधवार को जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव पार्टी की कार्यकारिणी बैठक के दौरान ज़िला अध्यक्षों को संबोधित कर रहे थे। सम्बोधन मे उन्होंने कहा की “बिहार में कोरोनावायरस के मामले रोज़ तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में बिहार में विधानसभा चुनाव कराने का कोई औचित्य नहीं हैं. आम जनता के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए मैं भारतीय निर्वाचन आयोग से अपील करता हूँ कि चुनाव को कुछ समय के लिए टाल दिया जाये। चुनाव तभी कराएं जाने चाहिए जब कोरोनावायरस महामारी का खतरा ना हो।” बैठक की अध्यक्षता बिहार प्रदेश अध्यक्ष रघुपति सिंह ने की। साथ ही नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि “2015 के चुनाव में वोट चाहिए था तो नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद यादव से गठबंधन कर लिया और अब 15 साल के जंगल राज का डर दिखा रहे हैं। क्या उस वक्त नहीं मालूम था कि लालू प्रसाद के राज में अपराधियों को संरक्षण मिल रहा था? नीतीश कुमार को सिर्फ सत्ता की चाहत है। इसके लिए वो किसी भी पार्टी से गठबंधन कर सकते हैं। उन्होंने गरीबों और मजदूरों को लॉकडाउन के दौरान उनके हाल पर छोड़ दिया। मजदूरों के पास न अनाज था और न ही पैसे। फिर भी उनकी चिंता नहीं की।

राज्य की कानून व्यवस्था पर उन्होंने कहा कि, “सिर्फ सुशासन का राग अलापने से कानून व्यवस्था सुदृढ़ नहीं हो जाती। हर रोज़ हत्या, बलात्कार, लूट की खबरें सामने आ रही है। अपराध का ग्राफ लगतार बढ़ता जा रहा है। राजधानी पटना में व्यापारी वर्ग अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करता। दूसरे जिलों की बात तो छोड़ ही दीजिए। यदि हम इस बार सत्ता में आते हैं तो हमारी तीन मुख्य प्राथमिकताएं होगीं – बेटियां रात के बारह बजे भी निर्भीक होकर घूम सकेंगी, राज्य से पलायन नहीं होगा तथा अपराधियों का डर और खौफ ख़त्म होगा।“

उन्होंने कहा कि, “चाहे चमकी बुखार हो या पटना में जलजमाव, सीएए-एनआरसी का विरोध करना हो या लॉकडाउन के दौरान गरीब जनता के बीच राशन बांटना हो। हमारी पार्टी हर मुसीबत में लोगों के बीच रही और करोड़ों लोगों की मदद की। इन बुरे हालातों में सत्ता पक्ष के नेता तो गायब रहे ही साथ ही विपक्ष के नेता भी अपने-अपने घरों में कैद रहें।”

पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी अध्यक्ष अखलाक़ अहमद ने कहा कि, “आज बिहार चुनाव की तैयारी की समीक्षात्मक बैठक हुई। पार्टी अपने बल बूते और कार्यकर्ताओं के सहारे चुनाव में उतरेगी।“

इस बैठक में राष्ट्रीय महासचिव एज़ाज अहमद, प्रेमचंद सिंह, राजेश रंजन पप्पू, प्रदेश प्रधान महासचिव सूर्यनारायण सहनी, अवधेश कुमार लल्लू, राघवेन्द्र सिंह कुशवाहा तथा बिहार के सभी 38 जिलों के पार्टी जिलाध्यक्ष मौजूद रहें।

32 thoughts on “चुनाव स्थगित करवाने के लिए पप्पू यादव जायेंगे सुप्रीम कोर्ट”
  1. Hello! I could have sworn I’ve been to this blog before but after browsing through some of the post I realized it’s new to me.儿童色情

  2. Hi, just required you to know I he added your site to my Google bookmarks due to your layout. But seriously, I believe your internet site has 1 in the freshest theme I??ve came across.Seo Paketi Skype: [email protected] -_- live:by_umut

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *