बिहार के सारण जिले में बेटी के जन्म लेने पर एक परिवार इतना खुश हुए कि वे लोग अस्पताल से उसकी मां व नवजात बच्ची को डोली में बिठाकर घर ले आए। इतना ही नहीं परिजन बेटी होने की खुशी में ढोल-ताशे बजाते डोली के साथ जश्न मनाते हुए पहुंचे। परिवार वालों का बेटी होने पर इस तरह प्रकट की गई खुशी समाज के उन लोगों के लिए मिशाल बन गई है, जो आज भी बेटी को बोझ मान उसके पैदा होने पर दुःखी होते हैं।

पूजा देवी के पति व नवजात के पिता धीरज गुप्ता कहते हैं कि तीन साल के एक पुत्र के बाद यह बेटी पैदा हुई है। इसके लिए हम सभी ने भगवान से मिन्नते भी मांगी थी, लिहाजा इसके पैदा होने से पूरे परिवार के खुशी का ठिकाना नहीं है। अब हम बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के नारा पर अमल करेंगे।

Input : live hindustan

Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *