Bihar, Muzaffarpur Election 2020: तो इस वजह से अब तक साफ नहीं हो सकी मुजफ्फरपुर की तस्वीर, नामांकन शुरू होने के बावजूद पटना की और टिकी निगाहें

0 0
Read Time:3 Minute, 28 Second

मुजफ्फरपुर, Bihar, Muzaffarpur Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Elections 2020)अब धीरे-धीरे निर्णायक दौर की ओर बढ़ता जा रहा है। अाज से दूसरे चरण के नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई। हालांकि आज अभी तक नामांकन किए जाने की सूचना नहीं मिली है। उससे भी बड़ी बात है कि मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) समेत दूसरे चरण के चुनाव के दायरे आने वाले जिलों के उम्मीदवारों की तस्वीर अभी तक साफ नहीं है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar)की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (JDU)को छोड़ दिया जाए तो और किसी भी दल से अपनी सूची जारी नहीं की है। यहां तक की जदयू की सहयोगी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (BJP) और विकासशील इंसान पार्टी (VIP)की ओर से भी सूची जारी नहीं की गई है।

यही हाल महागठबंधन (Grand Alliance) का है। यहां भी रस्साकशी का क्रम जारी है। न तो राजद (RJD) और न ही कांग्रेस (Congress) ने अपने प्रत्याशी को सामने लाया है। जहां तक मुजफ्फरपुर का संबंध है ताे यहां की औराई सीट से भाकपा माले ने आफताब आलम को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। वे चुनाव प्रचार में जुट भी गए हैं।

नीतीश के नेतृत्व को नकारने वाली लोजपा (LJP) का भी यही हाल है। इसी तरह की स्थिति रालोसपा (RLSP) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा और जाप (JAP) प्रमुख पप्पू यादव की है। इनके गठबंधन में भी अभी मंथन ही चल रहा। किसको कौन सी सीट दी जाए, अभी तक साफ नहीं हो सका। यही वजह है कि चुनाव अपने उस रंग में नहीं दिख रहा है। आलाकमान की चुप्पी के कारण यहां कयास लगाने का दौर तेजी से जारी है। हर किसी के पास किसी को टिकट मिलने या नहीं मिलने का तर्क होता है। सुबह जिसको टिकट मिल रहा होता है उसको कयासबाज शाम होते होते इस रेस से बाहर कर देते हैं।

प्रमुख राजनीतिक दलों की इस स्थिति के बारे में प्रेक्षकों का कहना है कि अभी सभी दल एक-दूसरे को देख रहे हैं। मुजफ्फरपुर नगर विधानसभा की सीट महागठबंधन से कांग्रेस के खाते में गई है। अभी तक कांग्रेस की ओर से दो प्रमुख दावेदार सामने आ रहे लेकिन, ये अपना पत्ता इसलिए नहीं खोल रहे क्योंकि एनडीए की ओर से भाजपा ने अपनी चाल अभी तक नहीं चली है। कहा ऐसा जा रहा है तो भाजपा कांग्रेस का इंतजार कर रही तो कांग्रेस भाजपा का। इन दोनों की चाल का इंतजार अन्य छोटे या निर्दल के रूप में अपनी दावेदारी पेश करने वालों को है। इसी तरह की स्थिति कांटी, गायघाट, औराई, पारू, सकरा, साहेबगंज, बोचहां आदि जगह की है।

इनपुट : जागरण

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
100 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: