https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

पटना. बिहार समेत पूरे देश में बढ़ती हुई जनसंख्या सरकार के सामने बड़ी चुनौती है. इसको देखते हुए बार-बार यह मांग उठ रही है कि जनसंख्या नियंत्रण कानून (Population Control Bill) लाया जाए. लेकिन इस पर आम सहमति नहीं बन पाई है. यही कारण है कि बीजेपी के नेता आए दिन इस मांग को मजबूती से उठा रहे हैं. सोमवार को विश्व जनसंख्या नियंत्रण दिवस (Population Control Day) के अवसर पर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के नेता गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) ने कड़े कानून बनाने की वकालत की है.

गिरिराज सिंह ने कहा कि एक समय हमारी जीडीपी चीन (China) से अधिक थी, और जनसंख्या की गति भी चीन का अधिक है, लेकिन आज बिल्कुल इसके विपरीत हो गया है इसलिए सभी धर्मों के लिए कड़े कानून बनाए जाने चाहिए. जनसंख्या नियंत्रण के लिए सभी राजनीतिक दलों को आगे आना चाहिए और इसकी आवाज को सड़क से संसद तक उठानी चाहिए.

बढ़ती हुई जनसंख्या का असर बिहार के सीमांचल इलाके में साफ देखा जा सकता है. यही कारण है कि लोग शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी बुनियादी सुविधाओं से महरूम होते जा रहे हैं. बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण सरकार की योजनाओं का लाभ लोगों को नहीं मिल पा रहा है. राज्य के वन एवं पर्यावरण मंत्री और बीजेपी के नेता नीरज बबलू ने कहा कि सरकार की विकास की गति से तेज जनसंख्या की गति है इसलिए लोग बुनियादी सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं. इसलिए सरकार को तत्काल जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की पहल करनी चाहिए.

बीजेपी के नेता जहां जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग मजबूती से उठा रहे हैं, लेकिन सहयोगी जेडीयू कड़े कानून बनाए जाने के पक्ष नहीं है. जेडीयू का मानना है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जो प्रयास किए हैं वो काबिले तारीफ है और देश के कई राज्य उसका अनुकरण कर रहे हैं. जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि चीन और ब्राजील जैसे देशों ने कड़े कानून की बदौलत जनसंख्या नियंत्रण करने की खतरनाक कोशिश की थी उसका दुष्परिणाम यह आया कि उन्हें भी अपनी नीति में बदलाव कर जनसंख्या को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन योजना चलानी पड़ी.

Source : News18

Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *