https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

डाॅ. जगन्नाथ मिश्रा काॅलेज के पास बूढ़ी गंडक नदी पर पुल के पहुंच पथ के लिए 7.98 एकड़ जमीन अधिग्रहण किए जाने की अधिसूचना मुजफ्फरपुर डीएम प्रणव कुमार ने जारी कर दी है। इसके तहत चंदवारा गांव के पांच लाेगाें के नाम की 3.69 एकड़ और नाजिरपुर में जियालाल राय के परिवार की 4.29 एकड़ जमीन में एप्राेच रोड बनेगा। अधिग्रहित की गई 7.98 एकड़ जमीन का प्रकार कृषि याेग्य बताया गया है। इसी दर से भू-धारियाें काे जमीन का मुअावजा भुगतान किया जाएगा। 43.29 कराेड़ रुपए की लागत से निर्माण कंपनी ने 300 मीटर लंबा कंक्रीट पुल बना लिया है।

इसके लिए 1306 मीटर लंबा पहुंच पथ बनाने के बाद पुल अावागमन के लिए तैयार हाे जाएगा। लेकिन, भूमि अधिग्रहण नहीं हाेने के कारण वर्ष 2014 से ही पहुंच पथ के निर्माण कार्य रुका पड़ा है। पिछले दिनाें डीएम की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय हुआ था कि सिक्समैन कमेटी की रिपाेर्ट के आधार पर जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

जिसके बाद अब भूमि अधिग्रहण के लिए अधिसूचना जारी की गई है। अधिसूचना के मुताबिक चंदवारा गांव में सकलदेव राय, जुगेश्वर राय, रामबाबू राय, जगन्नाथ राय, राज कुमार राय, सत्यनारायण राय और नंद किशाेर राय के नाम की 3.29 एकड़ जमीन एप्राेच पथ में आ रही है। जबकि नाजिरपुर में जियालाल राय व उनके परिवार के उमेश राय, सुनीता कुमारी, लक्ष्मी कुमार, सुशीला देवी, शुभकला देवी के नाम की 4.29 एकड़ जमीन पर एप्राेच पथ बनेगा। बूढ़ी गंडक नदी के दाेनाें बांध के बीच कृषि याेग्य जमीन के बीच से सड़क गुजरेगी।

पुल बनने से अखाड़ाघाट पुल के जाम से मिलेगी निजात; बखरी, पटियासा और चंदवारा की तरफ बढ़ेगा बाजार

इस पुल का निर्माण पूरा हो जानेस के बाद अखाड़ाघाट और जीराेमाइल गाेलंबर चाैक पर ट्रैफिक का दबाव कम हाेगा। राेज लगने वाले लंबे जाम से निजात मिलेगी। साथ ही इससे बखरी से लेकर चक माेहब्बत, बाड़ा जगन्नाथ, पुनास, पटियासा और चंदवारा के ग्रामीण इलाके में नया बाजार विकसित हाेगा। अभी से ही इस इलाके की कृषि याेग्य जमीन भी व्यवसायिक कीमताें में बिकने लगी है। इस इलाके में तेजी से जमीन की प्लाॅटिंग के काम शुरू हाे चुके हैं। अपार्टमेंट और माॅल आदि निर्माण के लिए बड़ी कंस्ट्रक्शन कंपनियां भी जमीन खरीदने के लिए पूंजी लगा रही हैं। बाजार विकसित हाेने के बाद जेल चाैक से लकड़ीढाई, बनारस बैंक चाैक, पक्कीसराय इलाका भी नया व्यवसायिक हब बनेगा।

Source : Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *