https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

मुजफ्फरपुर, चंद जमीन के टुकड़ो के लालच मे रिश्ते को किया गया शर्मसार, 11 साल के बच्चे को उसके ननिहाल के रिश्तेदारों ने अगवा कर माँगा 1 करोड़ की फिरौती. मामला पुलिस के पास पहुंचते ही पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए न सिर्फ मासूम को बरामद कर लिया, बल्कि एक महिला समेत 9 आरोपियों को भी धर दबोचा. इसके साथ ही पुलिस ने वो बाइक भी बरामद कर ली जिससे मासूम को अगवा किया गया था. गिरफ्तार अपहर्ताओं में बच्चे के मामा के दो बेटे राहुल और रोहित के अलावे उसका मौसा सुंदर यादव भी शामिल है.

घटना साहेबगंज थाना के जिराती टोला की है. जँहा बीते रविवार को 11 साल की बच्चे को दो बाइक सवार युवकों ने अगवा कर लिया. मासूम को उसके मामा मुनिलाल यादव के बेटे रोहित और राहुल ने रुपये देने के बहाना कर अगवा कर लिया. मिली जानकारी के अनुसार बच्चे के नाना योगेंद्र राय साहेबगंज थाना के जिराती टोला के निवासी हैं. योगेंद्र राय की दो बेटियां हैं और कोई बेटा नहीं है. उनकी सेवा के लिए एक बेटी चंपा देवी उनके साथ रहती है. योगेंद्र राय ने मई महीने में नाती चाहत को कुछ जमीन गिफ्ट की थी. यह बात योगेंद्र राय के दूसरी बेटी के पति सुंदर राय को हज़म नहीं हुई.

सुंदर राय ने फिर जमीन के लालच मे यह साजिश रच दी. सुंदर राय ने अपने ससुर योगेंद्र राय के भाई महेंद्र राय के बेटे मुन्नीलाल राय के साथ मिलकर साजिश रची. बच्चे को अगवा करने का जिम्मा मुन्नीलाल के बेटे राहुल और रोहित को दिया गया. रविवार को रोहित ने अपने दो साथी गुड्डू और दिलीप को साहेबगंज बुलाया. रोहित ने चाहत को रुपये दिलाने के बहाने गुड्डू और दिलीप के साथ भेज दिया. उसके बाद दिलीप चाहत को लेकर फरार हो गया. रविवार की शाम जब चाहत की मां के मोबाइल पर एक करोड़ की फिरौती का कॉल आया तो सबके होश उड़ गए.

मुज़फ़्फ़रपुर पुलिस को जब इस कांड की जानकारी मिली तो एसएसपी जयंतकांत ने सिटी एसपी नीरज कुमार सिंह के लीडरशिप में तत्काल छापामार दस्ते का गठन कर दो दिनों के अंदर अगवा चाहत को शिवहर के तरियानी से बरामद कर लिया. किडनैपर ने चाहत को तरियानी में एक महिला की देखरेख में रखा था. पुलिस ने उस महिला को भी गिरफ्तार कर लिया है. इस मामले में साजिशकर्ता मौसा सुंदर यादव और चाहत के ममेरे भाई रोहित और राहुल को भी दबोच लिया गया है. पुलिस ने बताया की थोड़ी भी देर होती तो बच्चे का मिलना मुश्किल हो जाता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *