https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

मधुबनी जिले के एक लड़की को अंतरजातीय विवाह करना महंगा पड़ गया है। अब पति दहेज की मांग करने लगा है। दहेज नहीं मिलने के कारण पति अब दूसरी लड़की से शादी करने की तैयारी में है। घटना की जानकारी मिलने पर जब पीडि़ता अपने ससुराल गई तो उसे मारपीट कर भगा दिया गया। अब वह इंसाफ के लिए चक्कर काट रही है। मामले को लेकर पीडि़ता ने मिथिला क्षेत्र के आइजी को आवेदन देकर इंसाफ की गुहार लगाई है।

बताया जाता है कि माता-पिता के निधन के बाद पंडौल थानाक्षेत्र के सकमा टोले बिरौल निवासी आरती कुमारी की शादी 21 जून 2018 को सोनकी ओपी क्षेत्र के सोनकी ओपी निवासी प्रेम शंकर प्रसाद से हुई। शुरू के दिनों में दोनों का जीवन खुशहाल था। लेकिन, आरती के गर्भवती होने के बाद पति गर्भपात कराने के लिए दबाव देने लगा। विरोध करने पर ढाई लाख रुपये दहेज की मांग करने लगा। इस बीच जब वह बीमार हुई तो उसे अस्पताल ले जाकर भर्ती करा दिया। जहां उसका गर्भपात भी करा दिया।

अस्पताल से ससुराल की जगह उसे रहमगंज स्थित एक किराए के मकान में रखा। जहां पति का दोस्त नागेंद्र कुमार उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की। घटना की जानकारी अपने पति को दी। इससे पति नाराज हो गया। कहा नागेंद्र से हम काफी कर्ज ले चुके हैं। वह अगर तुम्हारे साथ कुछ करना चाहता है तो इसमें क्या हर्ज है। यह सुनकर पीडि़ता ने विरोध की। इसके बाद उसे मारपीट कर कमरे में बंद कर दिया। जहां से वह किसी तरह से भागकर अपनी बहन के यहां पहुंची। इस बीच उसे जानकारी मिली की उसका पति दूसरी शादी करने की तैयारी में है। ससुराल पहुंचने पर पति सहित अन्य लोगों ने उसे मारपीट कर घर से भगा दिया। मामले को लेकर पीडि़ता महिला हेल्प लाइन भी गई । लेकिन, इंसाफ नहीं मिला।

Input: dainik jagran

One thought on “बिहार के दरभंगा में पति अपने दोस्त को कर्ज चुकाने के लिए पत्नी के पास भेज दिया, अंतरजातीय विवाह करना पड़ा”
  1. I loved as much as you will receive carried out right here.

    The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish.
    nonetheless, you command get bought an impatience over that you wish be delivering the following.
    unwell unquestionably come further formerly again since exactly the same nearly a lot
    often inside case you shield this hike.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *