अरुणाचल से लापता 5 युवको को कल भारत को सौपेगा चीन : किरण रिजिजू

0 0
Read Time:3 Minute, 5 Second

केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश (Arunachal pradesh) के लापता हुए 5 युवकों को चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) शनिवार को भारत को सौंप देगी. पीएलए ने पहले पुष्टि की थी कि लापता युवकों को उनके पक्ष से पाया गया था और हैंडओवर की प्रक्रिया के तौर-तरीकों पर काम किया जा रहा था. भारतीय सेना के सूत्रों ने कहा, चीन कल अरुणाचल प्रदेश से लापता पांच भारतीय नागरिकों को किबाथू सीमा कर्मियों की बैठक स्थल के पास वाचा में सौंप देगा.

किरेन रिजिजू ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा, “चीनी पीएलए ने भारतीय सेना को अरुणाचल प्रदेश के युवकों को हमारे पक्ष में सौंपने की पुष्टि की है. सौंपने की संभावना कल यानि 12 सितंबर, 2020 तक होगी.”

7 सितंबर को लापता हुए थे युवक

रिजिजू ने ही पहली बार इसकी सूचना दी थी कि पीएलए ने इस बात की पुष्टि की थी कि युवक सीमा पार चीन में पाए गए हैं. यह घटना तब सामने आई थी जब एक समूह के दो सदस्य जंगल में शिकार के लिए गए थे और लौटने पर उन्होंने उक्त पांच युवकों के परिवार वालों को जानकारी दी थी कि युवकों को सेना के गश्ती क्षेत्र सेरा-7 से चीनी सैनिक ले गए हैं. यह स्थान नाचो से 12 किलोमीटर उत्तर में स्थित है.

मैकमोहन रेखा पर स्थित नाचो अंतिम प्रशासनिक क्षेत्र है और यह दापोरीजो जिला मुख्यालय से 120 किलोमीटर दूर है. चीनी सेना द्वारा कथित तौर पर अगवा किए गए युवकों की पहचान तोच सिंगकम, प्रसात रिंगलिंग, डोंगतु एबिया, तनु बाकर और नगरु दिरी के रूप में की गई है. चीन का आरोप है कि 7 सितंबर को एलएसी पर तैनात भारतीय सैनिकों ने एक बार फिर ग़ैर-क़ानूनी तरीक़े से वास्तविक सीमा रेखा को पार किया और चीनी सीमा पर तैनात सैनिकों पर वार्निंग शॉट्स फ़ायर किए.

चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक़ चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चाओ लिजिएंग ने कहा, ‘चीन ने कभी ‘कथित’ अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी, ये चीन के दक्षिणी तिब्बत का इलाका है.

Input : News18

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

110 thoughts on “अरुणाचल से लापता 5 युवको को कल भारत को सौपेगा चीन : किरण रिजिजू

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: