https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

जम्मू: जम्मू (Jammu) के एयर फोर्स स्टेशन (Air Force Station) में हुए धमाके को लेकर जांच एजेंसियां ने अपनी जांच तेज कर दी है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एयरफोर्स स्टेशन को ड्रोन्स के जरिये निशाना बनाने की कोशिश की गई है.

सूत्रों का कहना है कि इस हमले में आतंकियों ने दो ड्रोन्स (Drone Attack) का इस्तेमाल किया है. जिसे एयरबेस के कुछ किलोमीटर दूरी से ही लांच किया गया था. हालांकि इस बात की भी जांच हो रही है कि क्या सीमा पार से ड्रोन्स को भेजा गया था.

जानकारों के मुताबिक आतंकी एयर स्टेशन में मौजूद एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर को निशाना बनाना चाहते थे लेकिन वे निशाना चूक गए. अगर आतंकी एयरफोर्स की संपत्तियों पर हमला करने में कामयाब हो जाते तो इससे काफी बड़ा नुकसान हो सकता था.

उधर जम्मू कश्मीर पुलिस ने आतंकियों के एक और बड़े आतंकी हमले की साजिश को नाकाम करते हुए 5-6 किलो आईडी बरामद की है. जिसका इस्तेमाल आतंकी जम्मू के भीड़ भाड़ वाले इलाके में कर आम लोगों को जान से मारने की साजिश रच रहे थे. पुलिस इस मामले में लश्कर के एक आतंकी को हिरासत में पूछताछ कर रही है.

देखा जाए तो पिछले कुछ महीनों से आतंकी ग्रुप पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसियों के इशारे पर सीमा पर से बडी संख्या में ड्रोन्स भेज रहे हैं. जिसके जरिए भारत मे हथियार से लेकर ड्रग्स की सप्लाई करते है. पठानकोट के बाद ये दूसरी बार है, जब आतंकियो ने फारवर्ड एरिया के एयर फोर्स स्टेशन को निशाना बनाया है.

बताते चलें कि जम्मू में हाई सिक्योरिटी वाले एयरपोर्ट पर एयरफोर्स के अधिकार क्षेत्र वाले हिस्से में रविवार तड़के लगातार दो ब्लास्ट (Jammu Air Force Station Blast) हुए. भारतीय वायुसेना (IAF), एनआईए (NIA) और अन्य एजेंसियों के साथ मिलकर इस बारे में जांच कर रही है कि क्या यह कोई आतंकी हमला था? जांच अधिकारी एयरपोर्ट के टेक्निकल एरिया में विस्फोटक गिराने में ड्रोन के संभावित इस्तेमाल की भी पड़ताल कर रहे हैं.

अधिकारियों ने बताया कि पहला ब्लास्ट तड़के एक बजकर 40 मिनट के आसपास हुआ था, जिससे एयरपोर्ट के टेक्निकल एरिया में एक बिल्डिंग की छत ढह गई. इस जगह की देखरेख का जिम्मा एयरफोर्स उठाती है और दूसरा विस्फोट पांच मिनट बाद जमीन पर हुआ. सूत्रों के मुताबिक, ब्लास्ट में एयरफोर्स के दो जवान मामूली रूप से घायल हो गए.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के ऑफिस ने बताया कि उन्होंने वायुसेना के उप प्रमुख एयर मार्शल एचएस अरोड़ा से ब्लास्ट के संबंध में बात की है. राजनाथ सिंह लद्दाख में चीन के सामने डटी भारतीय सेना की तैयारियों को देखने के लिए दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे हैं. लद्दाख पहुंचने पर उन्हें लद्दाख, कारगिल और लेह के जनप्रतिनिधियों से मुलाकात की. इस दौरे में वे BRO के प्रोजेक्टों का भी रिव्यू करेंगे.

Source : Zee news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *