मुजफ्फरपुर, निशुल्क मोतियाबिंद आपरेशन के नाम पर ठगी करने का मामला सामने आया है। जगनिया के ग्रामीण की शिकायत पर उपविकास आयुक्त सख्त हैं। सिविल सर्जन डा.यूसी शर्मा से जांच रिपोर्ट तलब की है। सिविल सर्जन डा.यूसी शर्मा ने बताया कि एसीएमओ व नेत्र रोग विशेषज्ञ डा.नीतू कुमारी को जांच का आदेश दिया गया है। जानकारी के अनुसार, जगनीया के नंद किशोर राय ने शिकायत की कि उनके गांव में अखाडाघाट शेखपुर में संचालित एक आइ हास्पिटल की ओर से शिविर लगाया गया। बताया गया कि आप लोगों को मुजफ्फरपुर ले जाएंगे तथा मुफ्त में सभी दवा, आपरेशन एवं आने-जाने का भाड़ा भी दिया जाएगा। जब हास्पिटल में आपरेशन कराया तो दस हजार रुपये हर मरीज से लिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि हास्पिटल के कर्मियों की ओर से गांव से आए गरीबों के साथ ठगी की गई है। इस तरह की ठगी पर रोक लगनी चाहिए। सिविल सर्जन डा.यूसी शर्मा ने कहा कि यह मामला गंभीर है। जांच रिपोर्ट आने के बाद अगली कार्रवाई की जाएगी।

अब जीविका दीदी करेंगी मरीजों की मदद

सदर अस्पताल में आने वाले मरीजों की अब जीविका दीदियां सहायता करेंगी। मरीजों की मदद के लिए परिसर में जीविका हेल्प डेस्क खोलने की कवायद चल रही है। जीविका की परियोजना प्रबंधक अनीश ने बताया कि राज्य कार्यालय की ओर यह नई पहल चल रही है। इसके तहत सदर अस्पताल में जीविका हेल्प डेस्क का संचालन संकुल संघ के माध्यम से किया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य मित्र की पदस्थापना की जाएगी जो बीमार व्यक्तियों को आवश्यक चिकित्सकीय एवं अन्य सहयोग दिलाएंगी। बताया कि इसके लिए संगठन के माध्यम से सिविल सर्जन को पत्र दिया गया है। नई व्यवस्था से सदर अस्पताल में मरीजों की सेवा में सहयोग मिलेगा। स्वास्थ्य मित्र, चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मियों को पूरा सहयोग करेंगे। सदर अस्पताल के बाद एसकेएमसीएच में यह सुविधा दी जाएगी। मालूम हो कि सदर अस्पताल में अभी जीविका की रसोई का संचालन हो रहा है।

इनपुट : दैनिक जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *