शिकार को लिक्विड में बदल देता है छोटा सा कीड़ा, घर में दिखे तो तुरंत कर दें खत्म !

0 0
Read Time:3 Minute, 11 Second

ये छोटे सा कीड़ा (Hammerhead Worm) दिखने में जितना साधारण होता है, उतना ही खतरनाक इसका शिकार करने का तरीका है. अगर ये कीड़ा कभी भी घर के आस-पास दिखे तो इसे मार देने में ही भलाई है.

दुनिया में विचित्र किस्म (Weird Animals Around the World) के जीव पाए जाते हैं. इनमें से कुछ जीवों को तो हम जानते हैं, लेकिन कुछ जीव ऐसे भी होते हैं, जिन्हें हम नहीं जानते या फिर उनसे होने वाले खतरे से अनजान होते हैं. कुछ कीड़े-मकोड़े कुदरत के लिए काफी उपयोगी होते हैं, तो कुछ ऐसे भी होते हैं जो बेहद ज़हरीले और खतरनाक.

ऐसा ही एक कीड़ा होता है – हैमरहेड (Hammerhead Worm) वर्म. जैसा कि इसके नाम से ही साफ है, इस कीड़े का सिर किसी हथौड़े की तरह होता है. ये कीड़ा दिखने में भले ही बड़ा नहीं होता, लेकिन ये इतना खतरनाक है कि अपने शिकार को किसी लिक्विड में तब्दील कर देता है और फिर उसे पी जाता है.

शिकार करने का अजीब तरीका हैमरहेड वर्म के शिकार करने का अंदाज़ बिल्कुल अनोखा है. ये कीड़ा खुद किसी स्लाइम की तरह दिखाई देता है. ये अपने शिकार को अजीबोगरीब ढंग से मारते हैं. आमतौर पर अर्थवर्म्स (Earthworms) का शिकार करने वाला हैमरहेड वर्म उसे देखते ही उसके आसपास एक चिपकने वाला तरल पदार्थ छोड़ने लगता है. अर्थवर्म्स उनसे चिपक जाता है और फिर ये अपने शिकार को दबोच लेते हैं. हैमरहेड tetrodotoxin नाम का केमिकल छोड़ते हैं, जो शिकार की बॉडी को लिक्विड में बदल देता है. इसके लिक्विडिफाई टिश्यूज़ को हैमरहेड वर्म धीरे-धीरे पी जाता है.

क्यों इन्हें मारना है ज़रूरी ?

चूंकि अर्थवर्म यानि केंचुआ पर्यावरण के लिए काफी अच्छा माना जाता है. ऐसे में अगर ये कीड़े केंचुए को मारते गए, तो इससे प्रकृति पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा. हैमरहेड वर्म ज्यादातर यूरोप और अमेरिका में पाया जाता है. अच्छी बात ये है कि ये कीड़ा इंसान या जानवरों के लिए खतरनाक नहीं होता, लेकिन पेड़-पौधों के लिए ये नुकसानदेह है. पौधों की हेल्दी ग्रोथ में सहायक केंचुए इसका मुख्य आहार हैं. ऐसे में केंचुए का दुश्मन हैमरहेड वर्म खुद ब खुद प्रकृति का दुश्मन हो जाता है. यही वजह है कि इन्हें देखते ही मार देने की अपील वैज्ञानिक भी करते हैं.

Source : News18

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Previous post बिहार : बैठकों मे अब नहीं शामिल हो पाएंगे मुखिया पति, राज्य सरकार ने कसी नकेल
Next post कोरोना तीसरी लहर : बिहार मे आज मिले 6393 नये मामले, 31 हज़ार पार हुआ एक्टिव मामलो की संख्या

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: