1 0
Read Time:3 Minute, 6 Second

बिहार मे चुनावी सरगर्मी शुरू हो गयी. दो महीने बाद बिहार विधानसभा के चुनाव की आहते भी शुरू हो जाएगी. आरोप प्रत्यारोप का दौर अभी से ही चालू हो गया है. ताज़ा मामला तेजस्वी यादव को लेकर है. जिनपे बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाते हुए कहा की बिहार के सबसे बड़े जमींदार लालू परिवार 73 नहीं 141 भूखंड, 30 फ्लैट व आधे दर्जन मकानों का मालिक है। मात्र 29 साल की उम्र में तेजस्वी यादव 52 से ज्यादा सम्पत्ति के मालिक कैसे बन गए, इसका जवाब वे आज तक नहीं दे पाए। राबड़ी देवी पटना शहर में 43 भूखंड के अलावा 30 से ज्यादा फ्लैट की मालकिन हैं। तेज प्रताप 28 सम्पत्ति के तो मीसा भारती 23 से ज्यादा सम्पत्तियों की मालकिन हैं।

लालू परिवार द्वारा बनाई गई खोखा कम्पनियों की 30 ज्यादा सम्पत्तियां ईडी और इनकम टैक्स द्वारा जब्त की गई हैं। इनमंे डिलाइट मार्केटिंग की 11, ए. के. इन्फोसिस्टम्स की 10, एब.बी. एक्सपोट्र्स की 1, मिशेल पैकर्स की 01 के अलावा राबड़ी देवी व हेमा यादव के नाम की 7 परिसम्पत्तियां बेनामी एक्ट, 1988 के तहत जब्त की गई है।

राबड़ी देवी के पटना के 30 फ्लैट में से 8 फ्लैट एक ही दिन बालू माफिया सुभाष यादव एवं राजद के संदेश से विघायक व बलात्कार के मामले में आरोपित अरुण यादव ने 4 करोड़ 28 लाख का भुगतान कर खरीदा था।

लालू यादव के रेलमंत्रित्व काल में रेलवे के दो होटलों को लीज पर देने के एवज में उनका परिवार डिलाइट मार्केटिंग कम्पनी का इस्तेमाल कर पटना के रूपसपुर में साढ़े तीन एकड़ जमीन का मालिक बना जिस पर तेजस्वी यादव 750 करोड़ की लागत से ‘बिगेस्ट माॅल आॅफ बिहार’ का निर्माण करा रहे थे। फेयर ग्रो नामक फर्जी कम्पनी के जरिए लालू परिवार टाटा स्टील के पटना स्थित गेस्ट हाउस का मालिक बन गया।

इसके अलावा ए. के. इंफोसिस्टम्स, के. एच. के. होल्डिंग, मिशेल पैकर्स जैसी मुखौटा कम्पनियों पर कब्जा कर तेजस्वी, राबड़ी, मीसा भारती, चंदा यादव पटना एवं दिल्ली में करोड़ों की सम्पत्ति के मालिक बन बैठे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: