https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

पटना के एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों ने गुरुवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) की तुलना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से कर दी. इसके बाद सियासी बवाल खड़ा हो गया. अब एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों ने सफाई जारी करते हुए कहा कि आरोपियों ने पूछताछ के दौरान जो कहा, वहीं मैंने मीडिया को बताया है.

पटना के एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों ने कहा, ‘हमने वही कहा जो दस्तावेजों में लिखा था और पूछताछ के दौरान आरोपी ने कहा था, जब आरोपियों से उनके काम करने के तरीके के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जैसे अन्य संगठन अपने लोगों को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाए रखने के नाम पर प्रशिक्षण देते हैं, वे भी ऐसा ही करते हैं.’

क्या है पूरा विवाद

पटना के SSP मानवजीत सिंह ढिल्लों ने PFI की तुलना RSS से कर दी. वह पीएम नरेंद्र मोदी के दौरे से ठीक पहले पटना में आतंकी मॉड्यूल के खुलासे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे. बात PFI की करतूतों की कर रहे थे, लेकिन उन्होंने उदाहरण देते हुए RSS का भी जिक्र कर दिया.

पटना SSP मानवजीत सिंह ढिल्लों ने कह दिया था कि जिस तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपनी शाखाएं आयोजित कर लाठी का और शारीरिक प्रशिक्षण देता है. उसी तरह से पीएफआई के लोग भी शारीरिक प्रशिक्षण देकर ब्रेनवॉश कर रहे थे. पटना एसएसपी ने पीएफआई की संघ से तुलना कर दी तो बिहार के सत्ताधारी गठबंधन में बड़े दल बीजेपी ने मोर्चा खोल दिया.

पटना एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों के बयान से बीजेपी भड़क गई. पार्टी के बड़े नेताओं ने ना सिर्फ फौरन माफी की मांग की बल्कि बर्खास्तगी के लिए अभियान भी छेड़ दिया. हालांकि बीजेपी SSP के विरोध में उतर आई तो राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और जीतन राम मांझी की पार्टी समर्थन में खड़ी हो गई.

विवाद गहराने के बाद बिहार पुलिस बैकफुट आ गई. बिहार के ADG जेएस गंगावर ने कहा कि किसी संस्था की किसी दूसरे संस्था से तुलना गलत है. पटना टेरर मॉड्यूल में बिहार पुलिस ने अब तक 5 लोगों गिरफ्तार किया है, जबकि FIR में 26 लोगों को आरोपी बनाया गया है. NIA ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी है.

इनपुट : आज तक

Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *