https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

केद्रीय गृहमंत्री गिरिराज सिंह ने एकबार फिर नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. गिरिराज सिंह ने पिछले दिनों गया और राजगीर में हर घर गंगाजल स्कीम के बहाने शराबंदी पर तंज किया. केंद्रीय मंत्री ने कहा- आज घर-घर दारू पहुंचाने वाले गंगा जल पहुंचाकर अपने पाप धोने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन उनके पाप धुलने लायक नहीं है. बिहार में जंगलराज स्थापित हो चुका है और अपराधी बेलगाम हैं. हाल के दिनों में बेगूसराय ही नहीं बिहार के कई जिलों में बड़ी- बड़ी आपराधिक घटनाएं सामने आई है. गिरिराज सिंह ने कहा-मुख्यमंत्री शराब नीति पर पुनर्विचार करें. जैसे पूरे देश में नीति चल रही है उस तरह का नीति लाएं, जिससे अपराध भी रुक सके और बिहार को राजस्व मिल सके.

बेगूसराय के दौरे पर हैं गिरिराज सिंह

गिरिराज सिंह पिछले चार दिनों से अपने संसदीय क्षेत्र बेगूसराय के दौरे पर हैं. इस दौरान वह लगातार बिहार सरकार पर हमलावर हैं. बेगूसराय में गिरिराज सिंह ने कहा- शराबबंदी से बिहार का राजस्व घाटा हो रहा है और इसका फायदा किसी और को हो रहा है. इसलिए घर-घर गंगाजल पहुंचाने से नीतीश कुमार को प्रायश्चित नहीं मिलेगी. नीतीश ने घर-घर शराब पहुंचाकर जो पाप किया है वह गंगाजल पहुंचाकर नहीं धुलेगा.

मंदिर हट सकते हैं तो कब्रिस्तान क्यों नहीं

इसके साथ ही गिरिराज सिंह ने एकबार फिर बेगूसराय जीरोमाइल और खगड़िया के बीच बन रहे फोरलेन के रास्ते में पपरौर के पास कब्रिस्तान नहीं हटाने के मुद्दे को फिर उठाया. उन्होंने कहा-अगर सड़क मार्ग से मंदिरों को हटाया जा सकता है तो कब्रिस्तान और मस्जिद को क्यों नहीं? रास्ते से अगर इस कब्रिस्तान को नहीं हटाया गया तो आंदोलन करने पर विवश होंगे.

ओवैसी जिन्ना की कार्बन कॉपी हैं

इसके साथ ही गिरिराज सिंह ने मदरसों में सर्वे करने की मांग की और कहा कि सरकार को मदरसों के सर्वे करा कर देखना चाहिए कि कितने जायज और कितने नाजायज तरीके के काम इन मदरसों में हो रहे हैं. इसके साथ ही गिरिराज सिंह ने कहा कि ओवैसी किसी भी दल के ए या बी टीम में शामिल नहीं हैं बल्कि ओवैसी जिन्ना की कार्बन कॉपी हैं और भारत में भी गजवा ए हिंद की स्थापना कर इसे इस्लामिक स्टेट बनाने के प्रयास में जुटे हुए हैं.

Source : Tv9 bharatvarsh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *