https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के लिए आज का दिन बेहद महत्वपूर्ण रहा. दिल्ली स्थित पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में आयोजित पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में ललन सिंह को पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया. हाल ही में केंद्रीय मंत्री बने आरसीपी सिंह की जिम्मेदारी मुंगेर सांसद ललन सिंह को सौंप दी गई है. अब ललन अपने सूझबूझ से पार्टी को मजबूत करेंगे और उसे नई ऊंचाईयों तक पहुंचाएंगे.


नीतीश कुमार का जिक्र नहीं किया


पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर पार्टी नेता ललन सिंह को बधाई दे रहे हैं. लेकिन केंद्रीय मंत्री और नीतीश कुमार के बेहद करीबी नेता आरसीपी सिंह नीतीश कुमार के फैसले से शायद खुश नहीं हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि ललन सिंह के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने उन्हें शुभकामनाएं दी. ट्विटर पर एक के बाद एक कुल छह ट्वीट किया. लेकिन किसी ट्वीट में उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का जिक्र नहीं किया.

आरसीपी सिंह ने ट्वीट कर लिखा, ” प्रिय साथियों, जेडीयू मेरे लिए पार्टी मात्र नहीं बल्कि यह मेरे लिए जीवन का पर्याय बन चुकी है. सुबह उठने से लेकर रात सोने तक मेरी हर सांस पार्टी और पार्टी के साथियों से जुड़ी होती है. लेकिन दल हो या जीवन, हमारी और आपकी भूमिका समय-समय पर बदलती रहती है. बदलाव जीवन और प्रकृति का नियम है, जिसे हम बदल नहीं सकते. लेकिन जो हमारे हाथ में है और जिसकी बाद में चर्चा होती है, वो यह कि हमने अपनी जिम्मेदारी कितनी खूबसूरती और शिद्दत से निभाई.”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ” पार्टी ने मुझे जब जो जिम्मेदारी दी, उसे मैंने अपना सौ प्रतिशत दिया और अपनी सम्पूर्ण ऊर्जा और चेतना दल को आगे बढ़ाने में लगाई. हमारे नेता का सिर हमेशा ऊंचा रहे और उनका काम सरजमीन तक पहुंचे, हमेशा पूरी तत्परता से इस कोशिश में लगा रहा. मुझे कहने में कोई संकोच नहीं कि मेरे हर काम की सफलता के मूल में आप सभी का विश्वास और साथ रहा है . मेरी हर उपलब्धि में आप सभी बराबर के साझेदार हैं और हमेशा रहेंगे.”

केंद्रीय इस्पात मंत्री ने कहा, ” राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में अपने संक्षिप्त कार्यकाल में और वो भी कोरोना के साये में रहते हुए मैंने दल को नई मजबूती और मुकाम देने की हरसंभव कोशिश की. अब इस दायित्व को ललन बाबू आगे बढ़ाएंगे, मुझे इसमें कोई संदेह नहीं. अपने दल के लिए और आप सबके लिए मैं जैसे उपलब्ध था, वैसे ही रहूंगा- आजीवन, अविराम. अपने साथ, सहयोग और स्नेह के लिए मेरा आभार और प्रणाम स्वीकार करें.”

नीतीश कुमार ने नहीं दी थी बधाई

गौरतबल है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जब आरसीपी सिंह केंद्रीय मंत्री बने थे तो उन्हें सार्वजनिक तौर पर बधाई नहीं दी थी. इस बात पर काफी बवाल भी हुआ था. तभी मामले में सफाई देते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा थी कि लोग बेवजह इस बात को मुद्दा बना रहे हैं. जरूरी नहीं है कि ट्वीट कर ही बधाई दिया जाए. लोग फोन पर भी बातचीत करते हैं. इस बयान के बाद ये मामला शांत हो गया था. लेकिन आरसीपी के ट्वीट ने एक बार फिर इस कयास को हवा दे दी है कि मुख्यमंत्री और उनके बीच दूरी बढ़ गई है.

Source : abp news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *