https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

पटना, बिहार सरकार ने एक बार फिर बीच युद्ध मे ही अपने सेनापति को बदल दिया है. नीतीश सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव उदय सिंह कुमावत को हटाने के साथ ही, तीन अन्य आईएएस अधिकारियों का तबादला कर दिया है. साथ ही, 3 अधिकारियों को अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.

बता दें कि, इससे पहले रविवार को बिहार में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक पत्र लिखकर उदय सिंह कुमावत को हटाया जाने की मांग की थी. साथ ही, उनके स्थान पर पूर्व में प्रधान सचिव के पद पर तैनात संजय कुमार की नियुक्ति करने को कहा है. आईएमए ने पत्र के माध्यम से सीएम को अवगत कराया था कि, वर्तमान प्रधान सचिव उदय सिंह कुमावत का व्यवहार चिकित्सकों के प्रति उदासीन है और उनके द्वारा लिए गए निर्णयों से डॉक्टरों के मन में रोष की भावन उत्पन्न हो रही है.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से प्रधान सचिव उदय सिंह कुमावत की शिकायत की थी. जिसके बाद मुख्यमंत्री ने प्रधान सचिव को फटकार लगाते हुए कहा कि, राज्य में आरटीपीसीआर टेस्ट की क्षमता रोज 20 हजार होनी चाहिए. अगर नहीं होती है, तो हम आप पर एक्शन लेंगे.

और अब उन पे एक्शन लेते हुए सरकार ने उदय सिंह कुमावत की जगह वरिष्ठ आईएएस अधिकारी प्रत्यय अमृत को नया प्रधान सचिव स्वास्थ्य विभाग का बनाया है. प्रत्यय अमृत की गणना बिहार के तेज-तर्रार अधिकारियों में होती है.

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव की कुर्सी मिलने के बाद, आईएएस प्रत्यय अमृत ने कहा कि, यह काफी चुनौतीपूर्ण काम है, जिसे मैं बखूबी निभाऊंगा. एक टीम के तौर पर हम सब मिलकर काम करने की कोशिश करेंगे. कोरोना संक्रमण में आम लोगो को दिक्कत ना हो, इसका ख्याल रखेंगे. साथ ही, एक टीम के रूप में हम सब मिलकर स्वास्थ्य विभाग को चलाएंगे.

कोरोना संकट के बीच, प्रत्यय अमृत तीसरे अधिकारी है, जो स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव पद की जिम्मेदारी संभालेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *