तीन महीने बाद एक साथ दिखे लालू के कृष्ण-अर्जुन, बोलते रहे तेजस्वी यादव, ‘मूर्ति’ की तरह खड़े रहे तेजप्रताप

0 0
Read Time:3 Minute, 47 Second

बिहार विधानमंडल का पांच दिवसीय शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो गया. सत्र के पहले दिन लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के दोनों बेटे तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) एक साथ दिखे. मीडिया से मुखातिब होने के समय दोनों भाई एक साथ तो दिखे लेकिन उनके चेहरे पर कोई खास हावभाव नहीं दिखा. लगातार दोनों भाइयों में आ रही विवाद की खबरों के बीच वे करीब तीन महीने के बाद जाकर सोमवार को शीतकालीन सत्र के पहले दिन एक साथ दिखे.

बता दें कि विधानसभा के अंदर भी दोनों भाइयों के बैठने की सीट भी एक ही साथ है. दोनों एक साथ ही बैठते हैं. कई बार यह देखा गया है कि तेजस्वी जब विधानसभा में बोलते हैं और सत्ता पक्ष सुनने के लिए तैयार नहीं होता है तो उनका साथ देने के लिए तेजप्रताप विधानसभा में उठ जाते हैं. हालांकि यह भी बयान आते रहा है कि दोनों भाइयों में सब ठीक है. खुद जब लालू यादव बिहार आए थे तो उन्होंने कहा था कि दोनों के बीच अच्छा रिश्ता है. उन्होंने कहा था कि दोनों को बीजेपी ने गुमराह किया था, लेकिन भाई-भाई साथ हैं.

तेजप्रताप और तेजस्वी के बयानों से दिख रहा था अलगाव

लालू यादव भले ये दावा कर लें कि दोनों भाइयों में सब ठीक है और उन्होंने दोनों से बात की है लेकिन तेजस्वी और तेजप्रताप के बयान से यह अक्सर झलका है कि दोनों में सबकुछ ठीक नहीं है. एक बयान में ही खुद तेजप्रताप ने कह दिया था कि कुछ लोग लालू यादव को बिहार नहीं आने देना चाहते हैं. उन्हें दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है. इसपर मीडिया से तेजस्वी ने कहा था कि लालू यादव को कोई बंधक नहीं बना सकता है.

पोस्टर को लेकर भी हो चुका है विवाद

तेजप्रताप के ट्विटर हैंडल पर कई ऐसे पोस्ट मिल जाएंगे जिससे उनकी नाराजगी का पता लगाया जा सकता है. ट्विटर को छोड़ दें तो पोस्टर को लेकर भी विवाद हो चुका है. इसी साल जन्माष्टमी के मौके पर राजधानी की सड़कों पर पोस्टर लगाया गया था जिसमें लालू यादव और राबड़ी देवी के साथ केवल तेजप्रताप की तस्वीर थी. इस पोस्टर में तेजस्वी यादव की तस्वीर नहीं थी.

तेज प्रताप ने बना लिया अपना संगठन

इस पोस्टर को लेकर इतना विवाद हुआ कि आकाश यादव को आरजेडी के छात्र विंग के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया. इस बात से नाराज होकर आकाश पारस गुट के एलजेपी (LJP) में शामिल हो गए और तेज प्रताप यादव ने नए संगठन का एलान कर दिया. शिक्षक दिवस के दिन अपने आवास पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने नए संगठन छात्र जनशक्ति परिषद के गठन का एलान किया था.

Source: Abp News

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Previous post बिहार में RJD MLA के होटल में पुलिस का छापा, शराब की खाली बोतलें मिलीं; विधायक बोले- बहुत पुरानी हैं
Next post ‘DM-SP को रास्ता देने के लिए मेरी गाड़ी रोकी… मैं सरकार हूं’- भड़के मंत्री जीवेश मिश्रा

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: