https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

Nepotism in Bollywood: बॉलीवुड में इस साल भी खान, कपूर, समेत तमाम फिल्मी खानदानों के बच्चे जोर शोर से लांच होने जा रहे हैं और बड़े बड़े दिग्गज हाथ में रेड कारपेट लिए खड़े हैं। इन चेहरों में अमिताभ बच्चन का नाती, शाहरुख खान का बेटा और बेटी, आमिर खान का बेटा, सलमान खान की भांजी, सैफ अली खान का बेटा, बोनी कपूर-श्रीदेवी की दूसरी बेटी और हृतिक रोशन की चचेरी बहन के नाम शामिल हैं।

शुरूआत होगी शैक्सपीयर की कृतियों को देसी अंदाज में पेश करने वाले, प्रेम कहानी को देश के मशहूर दंगों के इर्द गिर्द पिरोने वाले, सदियों पुराने सूर्य मंदिर के मुख्य द्वार पर शैतान खड़ा कर बिस्मिल बिस्मिल गीत फिल्माने वाले क्रांतिकारी निर्देशक विशाल भारद्वाज के बेटे आसमान भारद्वाज की फिल्म ‘कुत्ते’ से। यूं इससे पहले आसमान भारद्वाज तीन शॉर्ट फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं, लेकिन बड़े परदे के लिए पहली फुल लैंथ फिल्म होगी। इन तीनों ही शॉर्ट फिल्मों में लेखक या सह लेखक के तौर पर उनके पिता का नाम बताता है कि कैसे हर कदम पर विशाल उन्हें तैयार कर रहे हैं।

इतना ही नहीं ‘कुत्ते’ मूवी में भी प्रोडयूसर के तौर पर पिता के साथ मां रेखा भारद्वाज भी शामिल हैं, तो स्क्रीन प्ले और डायलॉग राइटर में आपको पिता विशाल का नाम मिलेगा और जाहिर है म्यूजिक डायरेक्टर के तौर पर भी। ये नेपोटिज्म बाकी खानदानों को भी मदद देता है। विशाल की फिल्मों में पंकज कपूर-शाहिद कपूर, अजय देवगन, सैफ अली खान और अब बेटे आसमान भारद्वाज की फिल्म में विवान शाह और अर्जुन कपूर को तवज्जो मिलने से समझा जा सकता है।

फिल्म स्टार्स के परिवारों के बच्चों के मामले में 2023 की सबसे चर्चित फिल्म होने जा रही है ‘द आर्चीज’, जिसका निर्देशन भी फिल्मी परिवार का ही एक चेहरा, जावेद अख्तर की बेटी जोया अख्तर करेंगी। करण जौहर की ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ की तरह, इस मूवी से भी कई स्टार किड्स लांच होंगे, जिनमें सबसे बड़ा नाम अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता नंदा के बेटे अगस्त्य नंदा का है। अमिताभ के दामाद निखिल नंदा चूंकि राजकपूर की बेटी के बेटे हैं, इसलिए अगस्त्य पूरे कपूर खानदान के भी चहेते हैं और इस तरह से कपूर, नंदा और बच्चन तीनों परिवारों के चिराग के तौर पर उन पर सबकी नजर रहेगी।

दूसरा बड़ा नाम जो इस मूवी से लांच होगा, वो है शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान का। तीसरा बड़ा नाम है खुशी कपूर का, यानी बोनी कपूर-श्रीदेवी की बेटी और जाहन्वी कपूर की छोटी बहन। अमेरिकन कॉमिक्स सीरीज आर्चीज के राइट्स लेकर बन रही ये मूवी 60 के दशक के बैकग्राउंड में बनाई जा रही है जो परदे पर नहीं बल्कि केवल नेटफ्लिक्स पर रिलीज होगी। फिल्म की शूटिंग पूरी हो चुकी है। मूवी में कई और युवा चेहरे भी होंगे, लेकिन जिन परिवारों के बच्चे हैं, उन्होंने अभी से ट्वीट करना शुरू कर दिया है। सोचिए फिल्म कैसी भी बने, मुफ्त का ये प्रमोशन जो अमिताभ, शाहरुख से लेकर जाहन्वी कपूर तक करेंगे, फिल्म को कम से कम नुकसान में तो नहीं जाने देगा। नुकसान होगा तो सालों से संघर्ष कर रहे उन प्रतिभाशाली युवाओं का जो बस एक प्रभावी रोल के लिए फिल्म इंडस्ट्री में इंतजार कर रहे हैं।

बोनी कपूर और उनके छोटे भाई अनिल कपूर की बेटियों की लांचिंग के बाद सबसे छोटे भाई संजय कपूर की बेटी शनाया कपूर को लेकर भी सालों से चर्चा चल रही थी। संजय और उनकी पत्नी जिस तरह से उनके मॉडलिंग के फोटो शेयर करते आ रहे थे, साफ था कि वो पहले ही उन्हें स्टार मान चुके हैं। तमाम स्टार्स के बच्चों के साथ लगातार पार्टियों में आने जाने से उनको पहले से ही काफी ब्रांड्स एंडोर्समेंट मिल चुके हैं। उनकी डेब्यू फिल्म ‘बेधड़क’ कऱण जौहर लेकर आ रहे हैं, उम्मीद है कि वह भी इस साल फ्लोर पर आ जाएगी।

सैफ अली खान और अमृता सिंह के बेटे इब्राहिम भी अरसे से बहन सारा अली खान के साथ तस्वीरें शेयर करने के चलते चर्चा में रहते आए हैं। अब खान कपूर नेपोटिज्म के संरक्षक करण जौहर उन्हें भी लांच करने वाले हैं। दरअसल पिछले साल पांच करोड़ लगाकर पचास करोड़ से ज्यादा कमाने वाली मलयालम फिल्म ‘हृदयम’ के हिंदी, तमिल, तेलुगू राइट्स फॉक्स स्टार स्टूडियो के साथ मिलकर कऱण जौहर ने खरीद लिए थे। उस फिल्म में भी मोहन लाल के बेटे प्रणव मोहन लाल ही हीरो थे। अब सैफ अली खान के बेटे इब्राहिम को हिंदी वर्जन में लेकर करण जौहर भी सैफ के बेटे पर सेफ गेम खेलना चाहते हैं। वैसे भी इब्राहिम खान ‘रॉकी और रानी की प्रेम कहानी’ में उन्हें असिस्ट कर रहे हैं।

सलमान खान को भी तमाम स्टार किड्स को आगे बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसमें अर्जुन कपूर, सोनाक्षी सिन्हा जैसे कई नाम हैं। श्वेता तिवारी की बेटी पलक तिवारी को वह ‘किसी का भाई किसी की जान’ से लांच कर रहे हैं। अब उनकी खुद की भांजी यानी अल्वीरा-अतुल अग्निहोत्री की बेटी अलिजेह अग्निहोत्री भी इस साल परदे पर लांच होने जा रही हैं। माना जा रहा है कि ‘जामताड़ा’ और ‘बुधिया सिंह बोर्न टू रन’ जैसी सीरीज-फिल्में बनाने वाले सौमेन्द्र पाधी ने उनके साथ एक फिल्म की शूटिंग पूरी कर ली है, जिसे इस साल रिलीज करने की तैयारी है।

रोशन परिवार से अब तक लड़कियां फिल्म लाइन में नहीं आई थीं, लेकिन अब हृतिक रोशन के चाचा यानी संगीतकार राजेश रोशन की बेटी पश्मीना रोशन बड़े परदे पर धमाल को तैयार हैं। उनकी मूवी ‘इश्क विश्क रिबाउंड’ को निपुण अविनाश धर्माधिकारी निर्देशित कर रहे हैं। उनके साथ रोहित सराफ, नैला ग्रेवाल और जिबरान खान भी हैं। हृतिक भी उनके प्रमोशन में कोई कोर कसर छोड़ना नहीं चाहते। अपनी फिल्म सुपर 30 में ‘अब राजा का बेटा राजा नहीं बनेगा’ जैसा डायलॉग बोलनेवाले हृतिक रोशन ने चचेरी बहन के साथ इस बार क्रिसमस मनाकर मीडिया में अच्छी कवरेज दिलवाई है।

आमिर खान के बेटे जुनैद की मूवी ‘महाराजा’ भी इस साल रिलीज होने की तैयारी में है। यशराज फिल्म्स के बैनर तले सिद्धार्थ मल्होत्रा इस मूवी को निर्देशित कर रहे हैं। इसमें जयदीप अहलावत भी अहम भूमिका में हैं। जुनैद इस मूवी में एक पत्रकार की भूमिका मे हैं, जो 1862 के एक केस को लेकर बनी है। वहीं ड्रग केस से लगभग उबर चुके आर्यन खान ने इंस्टाग्राम पर लिखा है कि उनके प्रोजेक्ट में लिखने का काम पूरा हो चुका है। शाहरुख और गौरी दोनों ने उस पर कमेंट किया और फिर मीडिया में डायरेक्टर आर्यन खान के पहले प्रोजेक्ट को बिना पैसा खर्च किए ही बेलौस प्रमोशन मिल गया है।

प्रोडयूसर्स को भी फिल्मी सितारों के बच्चों को लेना एक सुरक्षित निवेश लगता है। उनका पूरा परिवार मुफ्त में मूवी का प्रमोशन कर देता है। उस पर परिवार के कुछ लोग पैसा भी निवेश कर देते हैं। बाकी सितारे भी मदद करते हैं, ताकि कल को उनके बच्चों को भी ऐसी मदद मिल सके। हाल ही में इरफान के बेटे बाबिल की मूवी ‘कला’ आई तो बहुतों ने उनके लिए ट्वीट किया।

भाई भतीजावाद से घिरे बॉलीवुड में कुछ लोग पंकज त्रिपाठी, मनोज बाजपेयी, बोमन ईरानी जैसों का उदाहरण देने लगते हैं, लेकिन ऐसे उदाहरण बमुश्किल बीस फीसदी भी नहीं है। कई समस्याएं ऐसी हैं, जिनका समय, बाजार और जनता खुद ही रास्ता निकालती है, जैसे हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के स्टार सिस्टम को साउथ की अच्छी कहानियों और बेहतरीन निर्देशकों ने पीटकर रख दिया है। इस भाई भतीजावाद का भी कोई ना कोई हल समय के साथ जरूर निकलेगा, तभी प्रतिभाशाली आम युवाओं के लिए रास्ते थोड़े और ज्यादा खुल सकेंगे।

source: oneindia.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *