https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

मुज़फ्फरपुर :- जिले के ब्रह्मपुरा थाना क्षेत्र से 5 जून को एक चीनी नागरिक, ली जियाकी को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उसके पास भारत में प्रवेश से संबंधित कोई कागजात नहीं था। पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया, जहाँ से उसे न्यायिक हिरासत में खुदीराम बोस केंद्रीय कारागार में भेज दिया गया।

उसके बाद उसने आत्महत्या की कोशिश की और उसने अपने प्राइवेट पार्ट को काटने का प्रयास किया। आनन-फानन में उसे एसकेएमसीएच में भर्ती करवाया गया जहाँ पर उसने ईलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मामले को लेकर मानवाधिकार मामलों के अधिवक्ता एस.के.झा ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, नई दिल्ली और राज्य मानवाधिकार आयोग, पटना में दो अलग-अलग याचिका दाखिल किया है।

अधिवक्ता श्री झा ने बताया कि चीनी नागरिक के मामले में पुलिस और सरकारी व्यवस्था के द्वारा अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून का पालन नहीं किया गया हैं। साथ-ही-साथ उसे सही तरिके से काउंसलिंग नहीं किया गया और उसे चीनी भाषा के जानकार काउंसलर उपलब्ध नहीं कराया गया। अगर उसकी सही तरिके से काउंसलिंग होती और चीनी भाषा के जानकार काउंसलर उपलब्ध कराया गया होता तो शायद वह जिंदा रहता। अधिवक्ता ने कहा कि उसके परिजनों के पास उसका डेड बॉडी पहुँचे, इसके लिए प्रशासनिक व्यवस्था और सरकार को पूरा प्रयास करना चाहिए तथा उन्होंने मानवाधिकार आयोग से इस पूरे प्रकरण की जाँच करने की मांग की है।

5 thoughts on “चीनी नागरिक की मौत का मामला पहुंचा मानवाधिकार आयोग, अधिवक्ता एस.के.झा ने दायर की याचिका।”
  1. Nice blog here Also your site loads up fast What host are you using Can I get your affiliate link to your host I wish my web site loaded up as quickly as yours lol

  2. Taraflar boşanma kararı verdi ise; öncelikle tarafların ve varsa çocuklarının menfaati için biz hukukçular anlaşmalı boşanma yolunu öneririz ancak her dava ve ilişki münferittir, kişilere özgü uygulanacak çözüm yolları bulunmaktadır. Bu nedenle anlaşmalı boşanma protokolü hazırlanması ve dava sürecinin yönetilmesi hukukçularla yürünülmesi gereken bir yoldur, bu ve bunun gibi pek çok konuda bir hukukçu ile çalışmak size madden ve manen fayda sağlayacaktır.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *