https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

मुजफ्फरपुर, जिलाधिकारी प्रणव कुमार की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के सभागार में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने सड़क दुर्घटनाओं को कम करने एवं सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु दर कम करने के उद्देश्य से जन सामान्य को यातायात नियमों का अधिक से अधिक पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिया कि सभी संबंधित विभाग इस संबंध में दी गई जिम्मेदारियों का अक्षरशः पालन करते हुए अनुपालन प्रतिवेदन परिवहन विभाग को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे।

जिलाधिकारी ने बैठक में समीक्षा करते हुए कहा कि जिले में प्रदूषण जांच केन्द्रों का औचक निरीक्षण समय-समय पर सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों के द्वारा किया जाना सुनिश्चित किया जाए। साथ ही जिले में चिन्हित ब्लैक स्पॉट के सम्बन्ध में निर्देशित करते हुए कहा कि जिले में ब्लैक स्पॉटो का निस्तारण कार्य समय रहते पूर्ण करने की कार्यवाही अमल में लाई जाय।

पुलिस विभाग के पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया कि सभी एसएचओ से ब्लैक स्पॉट की सूची प्राप्त करते हुए परिवहन विभाग को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

उन्होंने जिले में दुर्घटना बहुल्य वलनरेबल स्पॉट्स एवं संभावित ब्लैक स्पॉट के रूप में चिन्हित स्थलों पर आवश्यक सुधार एवं यातायात पुलिस कर्मियों की पर्याप्त व्यवस्था आदि सम्बन्धित अधिकारियों के द्वारा करायी जानी सुनिश्चित करें ताकि जिले में होने वाली दुर्घटनाओं में कमी लायी जा सके। उन्होंने कहा कि अवैध पार्किंग, ओवरस्पीड करने वाले वाहनों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही करते हए उनके चालान काटे जाने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए, ताकि शहर की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ बनाया जा सके और और किसी के भी द्वारा यातायात नियमों का उल्लंघन न किया जा सके।

उन्होंने जिला परिवहन पदाधिकारी को निर्देशित किया कि सोमवार से लगातार सघन वाहन जांच अभियान चलाना सुनिश्चित करें।

समीक्षा में जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को आह्वान करते हुए कहा कि जिले में यातायात नियमों का पालन सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से सरकार के इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम सड़क सुरक्षा को बहुत ही गहनता के साथ सभी विभागीय अधिकारी आपसी सामंजस्य स्थापित करते हुए इसे धरातल पर उतारना सुनिश्चित करें ताकि दुर्घटनाओं की संख्या में कमी आ सके एवं सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मृत्यु दर में भी कमी आ सके।

बैठक में जिलाधिकारी ने जिले में सड़क सुरक्षा गतिविधियों की निगरानी, सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों की निगरानी, प्रोटोकॉल के अनुसार ब्लैक स्पॉटों की पहचान व उनके सुधार से संबंधित कार्य, दुर्घटना के कारणों की समीक्षा, सघन वाहन जांच अभियान, गुड सेमेरिटन का चयन एवं उनके लिए प्रोत्साहन राशि 5000 का प्रावधान, जिले में सड़क सुरक्षा कोषांग का गठन, ओवरलोड वाहनों की जांच हेतु वे पैड ,ऑटोमेटेड ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक की स्थापना, सिमुलेटर आधारित ड्राइविंग प्रशिक्षण ,स्कूली वाहनों की जांच, स्वास्थ्य विभाग -शिक्षा विभाग -पंचायती राज विभाग पुलिस एवं यातायात विभाग, पथ निर्माण विभाग ,नगर निगम ,एनएचएआई इत्यादि की भूमिका पर विचार विमर्श किया गया एवं संबंधित विभागों को महत्वपूर्ण निर्देश दिए गए।

बैठक में नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय, आरटीए- वरुण मिश्रा, अपर समाहर्ता राजेश कुमार, सिटी एसपी राजेश कुमार ,जिला परिवहन पदाधिकारी लाल ज्योति नाथ शाहदेव, अनुमंडल पदाधिकारी पूर्वी कुंदन कुमार एवं पश्चिमी अनिल कुमार दास, सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा,जिला जनसंपर्क पदाधिकारी कमल सिंह,परियोजना निदेशक एनएचएआई,अन्य विभागों के जिला स्तरीय पदाधिकारी , बिहार ट्रांसपोर्ट मोटर एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री उदय शंकर सिंह, ऑटो एसोसिएशन के अध्यक्ष उपस्थित थे l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *