https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-3863356021465505

मुजफ्फरपुर, जिले को शर्मसार कर देने वाली एक घटना फिर से निकल के बाहर आयी है. जँहा 10वी की छात्रा के साथ पांच लोगो ने पहले दुराचार किया और उसके बाद उसे जान से मारने की कोशिश मे थे लेकिन लड़की किसी तरह वहां से बच के निकल गई. ग्रामीणों ने इस मामले में एक युवक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया है। इस संदर्भ में छात्रा के पिता ने सकरा थाना में लिखित आवेदन दिया है !

घटना 4 जनवरी की बताई जाती है। पुलिस ने छात्रा को मेडिकल जांच के लिए मुजफ्फरपुर भेज दी है । छात्रा के पिता ने पुलिस को दिया आवेदन में स्पष्ट किया है कि 4 जनवरी के दिन उनकी पुत्री कोचिंग में पढ़ने के लिए गई थी जहां एक मोटरसाइकिल पर सवार दो युवक एवं एक बोलेरो पर सवार तीन युवक ने छात्रा को गाड़ी में बैठा लिया। सबहा के निकट बंद पड़े पेट्रोल पंप के निकट मकान में पांचों युवक ने मिलकर उसकी बेटी के साथ सामूहिक दुराचार किया ।

दुराचार करने के बाद अपहरणकर्ता छात्रा को जान से मारना चाहते थे। लेकिन छात्रा अंधेरे का फायदा उठाकर वहां से निकल गई । बगल की दुकान पर आकर दुकानदारों से घटना की जानकारी दी। जब तक वे लोग आते लोग भाग निकले लेकिन एक युवक को ग्रामीणों ने पकड़ लिया। ग्रामीणों ने पकड़ कर युवक को पुलिस के हवाले कर दिया । छात्रा के पिता का कहना है कि पांचों युवक के द्वारा उनकी पुत्री के साथ दुष्कर्म किया गया है । उन्होंने कहा कि घटना की जानकारी ग्रामीणों के द्वारा मोबाइल से मिली उनकी बच्ची जब बगल के दुकानदारों के निकट पहुंची तो उन लोगों के द्वारा दूरभाष पर सूचना दी गई थी सूचना के बाद वे लोग ग्रामीणों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे थे।

वही सकरा थाना अध्यक्ष ने घटना के संदर्भ में कहा है कि ये सामूहिक दुष्कर्म का मामला नहीं है। छात्रा अपने प्रेमी के साथ कही चली गयी । पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

2 thoughts on “मुजफ्फरपुर एक बार फिर शर्मसार, 10वी की छात्रा के साथ गैंगरेप के बाद की जान से मारने की कोशिश”
  1. Najlepsza aplikacja do kontroli rodzicielskiej, aby chronić swoje dzieci – potajemnie tajny monitor GPS, SMS-y, połączenia, WhatsApp, Facebook, lokalizacja. Możesz zdalnie monitorować aktywność telefonu komórkowego po pobraniu i zainstalowaniu apk na telefonie docelowym.

  2. Jeśli masz wątpliwości co do działań swoich dzieci lub bezpieczeństwa ich rodziców, możesz włamać się do ich telefonów z Androidem z komputera lub urządzenia mobilnego, aby zapewnić im bezpieczeństwo. Nikt nie może monitorować przez całą dobę, ale istnieje profesjonalne oprogramowanie szpiegowskie, które może potajemnie monitorować działania telefonów z Androidem, nie informując ich o tym.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *