मुजफ्फरपुर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने एईएस और कोरोना पर की समीक्षात्मक बैठक

1 0
Read Time:2 Minute, 56 Second

मुजफ्फरपुर, ज़िले के समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षात्मक बैठक हुई जिसमें एईएस (चमकी बुखार) और कोरोना की रोकथाम एवं उस पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की ओर से किए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की गई. इसके साथ ही बैठक में नियमित टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, दवा चिकित्सीय उपकरणों एवं एंबुलेंस की उपलब्धता , कालाजार नियंत्रण एवं प्रधानमंत्री जन -आरोग्य अभियान के अंतर्गत गोल्डन कार्ड वितरण की विस्तृत समीक्षा की गई.

इसके साथ ही बैठक में नियमित टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, दवा चिकित्सीय उपकरणों एवं एंबुलेंस की उपलब्धता , कालाजार नियंत्रण एवं प्रधानमंत्री जन -आरोग्य अभियान के अंतर्गत गोल्डन कार्ड वितरण की विस्तृत समीक्षा की गई. इस संबंध में मंत्री ने अधिकारियों को कई निर्देश दिए. एईएस के सम्बंध में सिविल सर्जन ने बताया कि इस वर्ष एईएस से सम्बंधित कुल 54 केस आये जिसमें 26 मुजफ्फरपुर और 28 अन्य जिले के हैं. इस रोग से 7 लोगों की मौत हुई और शेष बच्चे स्वस्थ हो चुके हैं. बैठक में कोरोना को लेकर किये जा रहे कार्यों से अवगत कराया गया। बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों एवं चिकित्सकों को संबोधित करते हुए मंत्री पाण्डेय ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों को जन-जन तक प्रचारित एवं प्रसारित करें तथा बेहतर स्वास्थ्य सेवा बहाल करने के लिए जनहित में सतत एवं प्रभावी मॉनिटरिंग की व्यवस्था प्रखण्ड एवं पंचायत स्तर पर करें.

बैठक में माननीय सांसद, वैशाली, विधान पार्षद देवेश चन्द्र ठाकुर, पारू, कुढ़नी और बोचहां विधायक, जिलाधिकारी डॉ०चन्द्रशेखर सिंह, एसकेएमसीएच के प्राचार्य और अधीक्षक, सिविल सर्जन तथा स्वास्थ्य विभाग के सभी पदाधिकारी एवं चिकित्सकगण उपस्थित थे

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
100%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

141 thoughts on “मुजफ्फरपुर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने एईएस और कोरोना पर की समीक्षात्मक बैठक

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: